--> Skip to main content

Posts

Showing posts with the label India Harritage place

HOME

Chola temple in Hindi

विश्व धरोहर में से एक great living Chola temple जिसके निम्न fact hai. Great Chola मंदिरों के बारे में- About Great living Chola temple चोला मंदिर का वास्तुकला- Architecture of Chola temple चोला मंदिर के खुलने का समय - Opening Timing of Chola temple चोला मंदिर की अतिरिक्त जानकारी- Extra information of Chola temple ग्रेट लिविंग चोल मंदिरों का पता- Address of great living Chola temple चोला मंदिर का टिकट - Ticket of Chola temple ऑनलाइन टिकट बुकिंग - Online ticket booking बकाया सार्वभौमिक मूल्य- Outstanding Universal Value Great Chola मंदिरों के बारे में- About Great living Chola temple भारत के तमिलनाडु में स्थित, ग्रेट लिविंग चोल मंदिर चोल साम्राज्य के राजाओं द्वारा बनाए गए थे। मंदिर मास्टरपीस हैं और वास्तुकला, मूर्तिकला, पेंटिंग और कांस्य कास्टिंग के शानदार काम को उजागर करते हैं। ग्रेट लिविंग चोल मंदिर एक यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल है जिसे 11 वीं और 12 वीं शताब्दी ईस्वी पूर्व की अवधि के बीच बनाया गया था। साइट में तीन महान मंदिर शामिल हैं। जिनमें तंजावुर में बृहदिश्वर मंद

Chola temple in Hindi

विश्व धरोहर में से एक great living Chola temple जिसके निम्न fact hai. Great Chola मंदिरों के बारे में- About Great living Chola temple चोला मंदिर का वास्तुकला- Architecture of Chola temple चोला मंदिर के खुलने का समय - Opening Timing of Chola temple चोला मंदिर की अतिरिक्त जानकारी- Extra information of Chola temple ग्रेट लिविंग चोल मंदिरों का पता- Address of great living Chola temple चोला मंदिर का टिकट - Ticket of Chola temple ऑनलाइन टिकट बुकिंग - Online ticket booking बकाया सार्वभौमिक मूल्य- Outstanding Universal Value Great Chola मंदिरों के बारे में- About Great living Chola temple भारत के तमिलनाडु में स्थित, ग्रेट लिविंग चोल मंदिर चोल साम्राज्य के राजाओं द्वारा बनाए गए थे। मंदिर मास्टरपीस हैं और वास्तुकला, मूर्तिकला, पेंटिंग और कांस्य कास्टिंग के शानदार काम को उजागर करते हैं। ग्रेट लिविंग चोल मंदिर एक यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल है जिसे 11 वीं और 12 वीं शताब्दी ईस्वी पूर्व की अवधि के बीच बनाया गया था। साइट में तीन महान मंदिर शामिल हैं। जिनमें तंजावुर में बृहदिश्वर मंद

Thanjavur Temple in hindi

Thanjavur Temple in Hindi तंजावुर के बारे में- Abaut Thanjavur Temple तंजावुर की यात्रा का सबसे अच्छा समय- Best time of Journey to Thanjavur temple How to visit Thanjavur Temple निकटतम हवाई अड्डा- Nearest Airport to Thanjavur temple सुरक्षा सुझाव- Safety Precautions यात्रा सुझाव- Journey precautions Transportation to Thanjavur temple Cabs to Thanjavur Temple Rental cars to visit Thanjavur temple Ticketing to Thanjavur temple तंजावुर के लोग- People of Thanjavur तंजावुर की भाषा- Language of Thanjavur तंजावुर का इतिहास- History of Thanjavur temple तंजावुर की संस्कृति- Calture of Thanjavur तंजावुर का मौसम- Weather of Thanjavur तंजावुर एयरपोर्ट के पास होटल- Hotel Near Thanjavur airport तंजावुर के बारे में- About Thanjavur temple बृहदेस्वर Mandir तमिलनाडु राज्य में स्थित, तंजावुर सांस्कृतिक रूप से न केवल राज्य के लिए, बल्कि भारत के लिए भी एक महत्वपूर्ण शहर है। तंजावुर को आधिकारिक रूप से ब्रिटिश शासन के दौरान तंजौर के रूप में ज

Interesting Facts Basilica of Bom Jesus Church of Goa

About Basilica of Bom Jesus  Church of Goa यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल है जहाँ गोवा के पूजनीय संरक्षक संत सेंट फ्रांसिस ज़ेवियर की नश्वर वेदी के पीछे एक ताबूत में लेटा हुआ है। बेसिलिका ऑफ बॉम जीसस चर्च बरोक वास्तुकला का एक सच्चा उदाहरण है। गोवा के सबसे पुराने चर्चों में से एक, इसका निर्माण 1594 में शुरू किया गया था और 1605 में आर्कबिशप डोम फादर एलेक्सीओ डे मेनेजेस द्वारा संरक्षित किया गया था। इस संत के शरीर की वंदना करने के लिए हर दस साल में एक प्रदर्शनी होती है। अगला प्रदर्शनी वर्ष 2024 में आयोजित किया जाएगा। सेंट फ्रांसिस जेवियर का पर्व हर साल 3 दिसंबर को यहां मनाया जाता है। 24 नवंबर को नवाह्न शुरू होंगे। तीर्थयात्री पड़ोसी क्षेत्रों से संत का सम्मान करने के लिए झुंड में आते हैं। यह गोवा राज्य में एक सार्वजनिक अवकाश भी है। About Goa - गोवा के बारे में गोवा दुनिया भर के लोगों का एक पसंदीदा पर्यटन स्थल है। चमकदार नीले अरब सागर द्वारा उकेरे गए समुद्र तट के विशाल हिस्सों के साथ, यह शहर अपने आगंतुकों को पुरानी दुनिया के आकर्षण और आधुनिक परिष्कार का एक मिश्रण प्रदान करता है। गोवा

Mohabodhi temple in hindi

Mohabodhi temple को ही महाबोधि विहार कहा जाता है इसे Unesco world heritage site में भी जगह प्राप्त है यह वही जगह है। जहां पर भगवान गौतम बुद्ध ने 6 वी शताब्दी पूर्व में ज्ञान की प्राप्ति की थी। यह बिहार राज्य के बोधगया जिले में स्थित है। बोधगया को Unesco world heritage site  में 2002 में शामिल किया गया था। यह भारत के दूसरे दर्शन स्थल की तरह ही एक बहुत बहुत ही प्रसिद्ध स्थल है।  Mohabodhi temple in hindi - महाबोधि मंदिर हिंदी  Mohabodhi temple  मुख्य बिहार महाबोधि विहार के नाम से जाना जाता है इस मंदिर की बनावट महान सम्राट अशोक के द्वारा स्थापित स्तूप के समान ही है। इसके अंदर एक बहुत ही बड़ी गौतम बुद्ध की एक मूर्ति है। यह मूर्ति लेटी हुई है जिसे पद्मासन मुद्रा कहते हैं। यह स्थान मुख्य तौर से गौतम बुद्ध के ज्ञान की प्राप्ति के लिए प्रसिद्ध है जिस स्थान पर गौतम बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी उसके चारों तरफ   पत्थर की रेलिंग की गई है। अगर बात की जाए सबसे पुराने अवशेषों की तो इस रेलिंग में लगे पत्थर ही  Mohabodhi temple  के सबसे पुराने अवशेष हैं। इस बौद्ध बिहार के परिसर में एक पार्क है ज

chhatrapati shivaji terminus information in hindi

Chhatrapati shivaji terminus information class="separator" style="clear: both; text-align: center;"> भारत के 38th world heritage site in india में से एक छत्रपति शिवाजी टर्मिनल, जिसे विक्टोरिया टर्मिनल के नाम से भी जाना जाता है। या भारत का एकमात्र रेलवे स्टेशन है , जिसे 38th world heritage site in india में शामिल किया गया है। छत्रपति शिवाजी टर्मिनल भारत के महाराष्ट्र राज्य के मुंबई शहर में स्थित है। CSTM के नाम से भी जाना जाता है।  Chhatrapati Shivaji terminus  मुंबई शहर का एकमात्र रेलवे स्टेशन है जो गौथिक कला के द्वारा बनाया गया था। छत्रपति शिवाजी टर्मिनल का मूलभूत संरचना 1878 में ही बनकर तैयार हो गया था। लेकिन इसका निर्माण 1887 में संपूर्ण हुआ था। छत्रपति शिवाजी टर्मिनल को 1997 में यूनेस्को विश्व विरासत स्थल में शामिल किया गया था। जो अपने डिजाइन और कला के लिए भी प्रसिद्ध है। छत्रपति शिवाजी टर्मिनल 38th world heritage site in india में से एक है जो वर्तमान में मध्य रेलवे में स्थित है। य

Rani ki vav in hindi

     UNESCO World Heritage site sites mein शामिल भारत की विश्व धरोहर स्थल रानी की वाव गुजरात शहर के पाटन गांव में स्थित है। Rani ki vav भारत के प्राचीनतम व ऐतिहासिक धरोहर उनमें से एक है यह गुजरात के सरस्वती नदी के किनारे बना एक भव्य बावड़ी (सीढ़ी नुमा कुआं है)। रानी की वाव कुल 7 मंजिला है।           Rani ki vav  इकलौती बावड़ी है जो चारों तरफ से आकर्षक कलाकृतियों और मूर्तियों से घिरी हुई है।  Rani ki vav  का निर्माण सोलंकी वंश के राजा भीमदेव की याद में उनकी पत्नी रानी उदयमति ने 11वीं सदी में करवाया था।  Rani ki vav  की विशाल व अद्भुत संरचना के कारण यूनेस्को वर्ल्ड Heritage site में 2014 में शामिल किया गया है।           Rani ki vav  अपनी अकल्पनीय वह अनूठी संरचना के लिए बहुत ही प्रसिद्ध है यह भूमिगत जल से स्रोतों से थोड़ी अलग है। रानी की भाव की संरचना के अंदर 500 से ज्यादा मूर्ति कलाओं को बहुत ही अच्छे ढंग से प्रदर्शित किया गया है। रानी की वाव को 2018 में RBI के द्वारा 100 के नोट में प्रिंट किया गया जो इसे दुनिया में एक अलग ही स्थान प्रदान करती है। Rani ki vav Important information -

Qutub Minar in Hindi - कुतुब मीनार

UNESCO World Heritage site में शामिल India Heritage place , कुतुब मीनार दिल्ली के महरौली जिले के दक्षिण में स्थित है। विश्व की सबसे unchi इमारत है जो ईंट द्वारा निर्मित है। इसकी ऊंचाई 72.5 मीटर जो लगभग 237.86 फीट है। तथा इसकी चौड़ाई 14.3 मीटर है जो ऊपर जाकर 2.75 मीटर बचती है।  Qutub Minar  के अंदर 379 सीढ़ियां हैं। कुतुब मीनार के अंदर भारतीय कला के कई उत्कृष्ट नमूने हैं जिसका निर्माण लगभग 1192 ईस्वी से शुरू हुआ था। Qutub Minar history in Hindi - कुतुब मीनार का इतिहास हिंदी में Qutub Minar का निर्माण मुस्लिम शासक कुतुबुद्दीन ऐबक ने किया था। कुतुब मीनार का निर्माण मुख्य तौर से वैद्य साला को तोड़कर बनवाया गया था इसका निर्माण अफगानिस्तान में स्थित जामा मस्जिद को देखकर कुतुबुद्दीन ऐबक ने इस्लाम को फैलाने के लिए किया था।  Qutub Minar  का निर्माण 1193 ईस्वी मे कुतुबुद्दीन ऐबक में प्रारंभ किया था जिसका कुतुबुद्दीन ऐबक के द्वारा सिर्फ आधार ही बनकर तैयार हुआ था। इसके बाद कुतुबुद्दीन का उत्तराधिकारी इल्तुतमिश ने तीन मंजिल और बढ़ाया था। सन 1367 में फिरोजशाह तुगलक के द्वारा पांचवे और अंतिम मंजिल