--> Skip to main content

HOME

Chola temple in Hindi

विश्व धरोहर में से एक great living Chola temple जिसके निम्न fact hai. Great Chola मंदिरों के बारे में- About Great living Chola temple चोला मंदिर का वास्तुकला- Architecture of Chola temple चोला मंदिर के खुलने का समय - Opening Timing of Chola temple चोला मंदिर की अतिरिक्त जानकारी- Extra information of Chola temple ग्रेट लिविंग चोल मंदिरों का पता- Address of great living Chola temple चोला मंदिर का टिकट - Ticket of Chola temple ऑनलाइन टिकट बुकिंग - Online ticket booking बकाया सार्वभौमिक मूल्य- Outstanding Universal Value Great Chola मंदिरों के बारे में- About Great living Chola temple भारत के तमिलनाडु में स्थित, ग्रेट लिविंग चोल मंदिर चोल साम्राज्य के राजाओं द्वारा बनाए गए थे। मंदिर मास्टरपीस हैं और वास्तुकला, मूर्तिकला, पेंटिंग और कांस्य कास्टिंग के शानदार काम को उजागर करते हैं। ग्रेट लिविंग चोल मंदिर एक यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल है जिसे 11 वीं और 12 वीं शताब्दी ईस्वी पूर्व की अवधि के बीच बनाया गया था। साइट में तीन महान मंदिर शामिल हैं। जिनमें तंजावुर में बृहदिश्वर मंद

Mohabodhi temple in hindi

Mohabodhi temple को ही महाबोधि विहार कहा जाता है इसे Unesco world heritage site में भी जगह प्राप्त है यह वही जगह है। जहां पर भगवान गौतम बुद्ध ने 6 वी शताब्दी पूर्व में ज्ञान की प्राप्ति की थी। यह बिहार राज्य के बोधगया जिले में स्थित है। बोधगया को Unesco world heritage site में 2002 में शामिल किया गया था। यह भारत के दूसरे दर्शन स्थल की तरह ही एक बहुत बहुत ही प्रसिद्ध स्थल है। 

Mohabodhi temple in hindi

Mohabodhi temple in hindi - महाबोधि मंदिर हिंदी 

Mohabodhi temple मुख्य बिहार महाबोधि विहार के नाम से जाना जाता है इस मंदिर की बनावट महान सम्राट अशोक के द्वारा स्थापित स्तूप के समान ही है। इसके अंदर एक बहुत ही बड़ी गौतम बुद्ध की एक मूर्ति है। यह मूर्ति लेटी हुई है जिसे पद्मासन मुद्रा कहते हैं। यह स्थान मुख्य तौर से गौतम बुद्ध के ज्ञान की प्राप्ति के लिए प्रसिद्ध है जिस स्थान पर गौतम बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी उसके चारों तरफ   पत्थर की रेलिंग की गई है। अगर बात की जाए सबसे पुराने अवशेषों की तो इस रेलिंग में लगे पत्थर ही Mohabodhi temple के सबसे पुराने अवशेष हैं। इस बौद्ध बिहार के परिसर में एक पार्क है जो दक्षिण पूर्व दिशा में स्थित है जहां पर बौद्ध भिक्षु अपना ध्यान साधना करते थे। इस बिहार में घूमने की अनुमति तो सभी को है लेकिन इससे पहले प्रशासन की अनुमति लेना आवश्यक है। 

          Mohabodhi temple में उन सात स्थानों को चिन्हित किया गया है जहां पर भगवान गौतम बुद्ध ने ज्ञान की प्राप्ति के बाद 7 सप्ताह का समय व्यतीत किया था। इस बिहार में एक बोधि वृक्ष है जिसका उल्लेख जातक कथाओं में मिलता है जिसके नीचे भगवान गौतम बुद्ध ने बैठकर ज्ञान की प्राप्ति की थी। जो आमतौर से एक पीपल का वृक्ष है। यह इस विहार के पीछे स्थित है। इस समय किस बोधि वृक्ष की पांचवी पीढ़ी है। महाबोधि बिहार में जब सुबह घंटों की आवाज आती है तो एक अजब सी शांति प्रदान करती है। 

Mohabodhi temple के पीछे भगवान गौतम बुद्ध की लाल बलुआ पत्थर की 7 फीट ऊंची मूर्ति है जो वज्रासन मुद्रा में है। इस मूर्ति के चारों तरफ विभिन्न रंगों के पताके लगे हुए हैं जो इस मूर्ति को एक अलग ही आकर्षण प्रदान करता है। कुछ इतिहासकारों का मानना है कि तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व इसी स्थान पर सम्राट अशोक में हीरो से बने राज सिंहासन को लगाया था। इस स्थान को पृथ्वी का नाभि केंद्र भी कहा जाता है। इस मूर्ति के सामने भूरे बलुआ पत्थर पर भगवान गौतम बुद्ध के पदचिन्ह बने हुए हैं। इन पद चिन्हों को धर्म चक्र परिवर्तन का प्रतीक माना जाता है। 
        गौतम बुद्ध ने ज्ञान प्राप्ति के दूसरे सप्ताह में इसी बोधि वृक्ष के आगे खड़ा होकर अपना समय बिताया था। इसीलिए यहां पर गौतम बुद्ध की एक खड़ी हुई मूर्ति बनी हुई है। इस खड़ी हुई मूर्ति को अनिमेष लोचन कहा जाता है जो महाबोधि बिहार के उत्तर पूर्व में है जहां पर Animesh लोचन चैत्य बना हुआ है। 
       महाबोधि विहार के मुख्य विहार के उत्तरी भाग को चंकमाना नाम से जाना जाता है। यह वही स्थान है जहां पर गौतम बुद्ध ने अपना तीसरा सप्ताह व्यतीत किया था। इस समय पर यहां पर एक काले पत्थर का कमल का फूल बना हुआ है जो गौतम बुद्ध का प्रतीक माना जाता है। 
       इस बिहार के उत्तर पश्चिम में एक छत विहीन इमारत है। जिसे रत्ना घारा के नाम से लोग जानते हैं। या वही स्थान है जहां पर गौतम बुद्ध ने अपने ज्ञान की प्राप्ति के बाद 4th सप्ताह व्यतीत किया था। लोगों का मानना है कि यहीं पर गौतम बुद्ध ध्यान में एकदम विलीन थे उसी समय गौतम बुध के शरीर से एक किरण की पुंज निकली। इन्हीं प्रकाश के रंगों को विभिन्न देशों के पताको ने किया गया है।
        महाबोधि बिहार के उत्तरी दरवाजे से कुछ दूरी पर स्थित अजपाला निग्रोधा वृक्ष है। जहां पर भगवान गौतम बुद्ध ने अपना पांचवा सप्ताह व्यतीत किया था। 
        महाबोधि बिहार के दाएं और स्थित मुचलिंडा झील है। जहां पर गौतम बुद्ध ने अपना छठा सप्ताह व्यतीत किया था। झील की चारों तरफ वृक्ष लगे हुए हैं। इस झील के बीच में एक बहुत विशाल गौतम बुद्ध की मूर्ति स्थापित की गई है। लोगों का कहना है कि इस मूर्ति की रक्षा यहां पर एक विशाल सांप के द्वारा की जाती है। एक दंतकथा में इस मूर्ति के संबंध में कहा गया है की भगवान बुद्ध प्रार्थना में इतने विलीन थे कि उन्हें आंधी और पानी आने का कोई ध्यान नहीं रहा इस वजह से गौतम बुध मूसलाधार बारिश में फंस गए थे तब सांपों का राजा मुचलिंडा ने अपने निवास से बाहर आकर गौतम बुद्ध की रक्षा की थी।

महाबोधि विहार के दक्षिण पूर्व में राज यातना वृक्ष है। जहां पर गौतम बुद्ध ने अपना सातवां सप्ताह व्यतीत किया था। यह वही जगह है जहां पर दो वर्मा के निवासी व्यापारी भगवान बुध से आश्रय में आने की प्रार्थना की थी। तभी से 'बुद्धम शरणम गच्छामि' का उच्चारण किया गया था। इसके बाद से या प्रार्थना बहुत प्रसिद्ध हो गई जिसे आज भी बुद्ध की प्रार्थना करने के लिए उपयोग किया जाता है।

महाबोधि मंदिर के प्रमुख मठ -Important Math of Mahabodhi Temple

Mohabodhi temple in hindi

तिब्बतियन मठ

तिब्बतियन मठ महाबोधि बिहार के पश्चिम में केवल 5 मिनट की पैदल यात्रा की दूरी पर स्थित है यह इस बिहार का सबसे बड़ा और पुराना मठ है। जो 1934 ईस्वी में बनाया गया था। यह निरंजना नदी के तट पर स्थित है जो बर्मी बिहार के अंदर स्थित है। इस बिहार के अंदर दो प्रार्थना करते हैं व भगवान गौतम बुद्ध की एक विशाल मूर्ति है।

थाई मठ 

 महाबोधि विहार से 1 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इस मठ के छत को सोने के रंग से पुताई की गई है इसीलिए इसे गोल्डन मठ नाम से भी जाना जाता है। इस मठ को थाईलैंड के राजपरिवार ने गौतम बुध के स्थापना के 25 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष में बनवाया था। 

इंडोर सन निप्पन जापानी मंदिर -

यह मंदिर Mohabodhi temple से 11.5 किलोमीटर के दक्षिण में स्थित है। जिसका निर्माण 1972 से 1973 में किया गया था। इस मंदिर का निर्माण जापानी कला के अनुसार प्राचीन जापानी विहारओं के आधार पर लकड़ी से बनाया गया था। इस बिहार की खास बात यह है कि इस बिहार में गौतम बुद्ध से संबंधित व घटित घटनाओं को चित्रों के माध्यम से दर्शाया गया है। 

चीनी बिहार - 

चीनी विहार Mohabodhi temple के पश्चिम में 5 मिनट की दूरी पर स्थित है। इसका निर्माण 1945 ईस्वी में हुआ था। इस बिहार के अंदर भगवान गौतम बुद्ध की एक सोने से बनी मूर्ति रखी गई है। इस बिहार को सन 1997 में पुणे विनिर्माण करवाया गया था। 

भूटानी मठ - 

भूटानी मठ जापानी बिहार के उत्तर में स्थित है। इस बिहार की दीवारों पर नक्काशी की एक बहुत ही बेहतरीन कला को उधारी गई है। 

वियतनामी विहार -

वियतनामी बिहार सबसे नया विहार है यह Mohabodhi temple के उत्तर में स्थित है जो 5 मिनट की पैदल यात्रा की दूरी पर स्थित है इस विहार को सन 2002 में स्थापित किया गया था। इस बिहार के अंदर बुध के शांति अवतार अवलोकितेश्वर रूप की मूर्ति की स्थापना की गई है। 

       उपरोक्त मठों के अलावा भी इस विहार में कई अन्य प्रकार के स्मारक स्थित हैं जो बहुत ही प्रसिद्ध हैं। भारत की सबसे गौतम बुद्ध की ऊंची मूर्ति जो 6 फीट की है जो कमल के फूल पर स्थित है। यह मूर्ति 10 फीट ऊंचे आधार पर बनी हुई है जिसे यहां के स्थानीय लोग 80 फीट ऊंचा मानते हैं।

 महाबोधि मंदिर के आसपास के दर्शनीय स्थल

Mohabodhi temple in hindi

राजगीर -

यदि आप बोधगया की सैर पर हैं तो आपको राजगीर जरूर घूमना चाहिए। यहां पर विश्व शांति स्तूप है जो काफी आकर्षक है। विश्व शांति स्तूप ग्रिधरकुट पहाड़ी पर बना हुआ है इसे देखने के लिए रोपवे बना हुआ है जिसके माध्यम से आप यहां तक जा सकते हैं। इसे देखने का शुल्क ₹25 है जिसे आप सुबह 8:00 बजे से दोपहर के 12:00 बजे तक देख सकते हैं। इसके बाद यह दोपहर के 2:00 बजे से शाम के 5:00 बजे तक खुला रहता है। इस शांति स्तूप के निकट ही वेणु वन है जहां पर गौतम बुध एक बार आए थे। राजगीर में ही विश्व प्रसिद्ध सप्तपर्णी गुफा है। जहां पर गौतम बुध के निर्वाण के बाद का पहला बौद्ध सम्मेलन आयोजित हुआ था। सप्तपर्णी गुफा बस स्टॉप से दक्षिण में गर्म जल कुंड के पास स्थित है जहां से आप 1000 सीढ़ियां चढ़ाई करके यहां तक पहुंच सकते हैं। यदि आप बस स्टॉप से सप्त करणी गुफा तक जाना चाहते हैं। तो आपको एक मात्र साधन घोड़ा गाड़ी मिलेगी जिसे यहां पर टमटम के नाम से जाना जाता है। यदि आप इस टमटम से घूमना चाहते हैं तो आपको आधे दिन का ₹100 से ₹300 तक आधा करना पड़ेगा। यदि आप यहां घूमने जाना चाहते हैं तो आप यहां ठंडे मौसम में जाइए तो यह आपके लिए अनुकूलित समय होगा। 
Note : राजगीर में भारत सरकार के द्वारा अभी एक बहुत बड़ा शीशे का पुल बनाया जा रहा है। जिससे सब करणी गुफा तक जाने से रोक ब्रिज का इस्तेमाल किया जाता था अब इस शीशे के पुल का इस्तेमाल किया जाएगा।

नालंदा- 

नालंदा, राजगीर से मात्र 13 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। नालंदा विश्वविद्यालय विश्व में प्राचीन काल से ही मशहूर है। मौजूदा समय में नालंदा विश्वविद्यालय में केवल अवशेष ही मिलेंगे लेकिन कुछ समय पहले बिहार सरकार ने नालंदा विश्वविद्यालय को फिर से पुनर्निर्माण करवाने के लिए कहा है। जिसका काम इस समय चल रहा है। यहां पर एक म्यूजियम भी है जहां पर इस में खुदाई के दौरान प्राप्त चीजों को रखा गया है। 

पावापुरी - 

पावापुरी नालंदा से मात्र 5 किलोमीटर की दूरी पर है जो एक जैन तीर्थ स्थल है। पावापुरी में एक विशाल भगवान महावीर का मंदिर है।

बिहार शरीफ - 

बिहार शरीफ नालंदा के पास ही है। उसका प्राचीन काल में ओदंतपुरी नाम था। इस समय यह मुस्लिम तीर्थ स्थल के रूप में प्रसिद्ध है। बिहारशरीफ में एक बहुत बड़ा मस्जिद दरगाह मौजूद है जहां पर काफी लोग जाते हैं। यदि आप नालंदा घूमने आते हैं तो आप बिहारशरीफ जरूर जाएं।

महाबोधि टेंपल तक कैसे जाएं- 

Mohabodhi temple तक जाने के लिए आप बस, ट्रेन या फ्लाइट का सहारा ले सकते हैं। तीनों माध्यम से आप Mohabodhi temple तक पहुंच सकते हैं। इसके अलावा यदि आप प्राइवेट वाहन से जाना चाहते हैं तो आप प्राइवेट वाहन से भी जा सकते हैं।

महाबोधि मंदिर ट्रेन से कैसे जाएं

यदि आप Mohabodhi temple ट्रेन से जाना चाहते हैं तो आप भारत के किसी भी शहर से ट्रेन पकड़कर आप 'गया जंक्शन' पहुंच सकते हैं। जहां से आप बस या टैक्सी के माध्यम से Mohabodhi temple तक आराम से जा सकते हैं। Mohabodhi temple जाने के लिए भारत सरकार के द्वारा कई ट्रेन भी चलाई जाती हैं।

महाबोधि मंदिर हवाई जहाज से कैसे जाएं

Mohabodhi temple हवाई जहाज से जाने के लिए आपको गया एयरपोर्ट जाना होगा जहां पर वीकली जहाज उपलब्ध रहती है। गया हवाई अड्डे से मात्र 14 किलोमीटर की दूरी पर महाबोधि मंदिर स्थित है। जहां से आप बस या निजी साधनों से आसानी से आ सकते हैं।

महाबोधि मंदिर बस से कैसे जाएं

यदि आप Mohabodhi temple बस से जाना चाहते हैं तो आप भारत के किसी भी शहर से महाबोधि मंदिर तक बस पकड़कर जा सकते हैं। बोधगया के लिए गया, पटना, नालंदा, राजगीर, वाराणसी तथा कोलकाता से बस चलाई जाती है।

Popular posts from this blog

chhatrapati shivaji terminus information in hindi

Chhatrapati shivaji terminus information class="separator" style="clear: both; text-align: center;"> भारत के 38th world heritage site in india में से एक छत्रपति शिवाजी टर्मिनल, जिसे विक्टोरिया टर्मिनल के नाम से भी जाना जाता है। या भारत का एकमात्र रेलवे स्टेशन है , जिसे 38th world heritage site in india में शामिल किया गया है। छत्रपति शिवाजी टर्मिनल भारत के महाराष्ट्र राज्य के मुंबई शहर में स्थित है। CSTM के नाम से भी जाना जाता है।  Chhatrapati Shivaji terminus  मुंबई शहर का एकमात्र रेलवे स्टेशन है जो गौथिक कला के द्वारा बनाया गया था। छत्रपति शिवाजी टर्मिनल का मूलभूत संरचना 1878 में ही बनकर तैयार हो गया था। लेकिन इसका निर्माण 1887 में संपूर्ण हुआ था। छत्रपति शिवाजी टर्मिनल को 1997 में यूनेस्को विश्व विरासत स्थल में शामिल किया गया था। जो अपने डिजाइन और कला के लिए भी प्रसिद्ध है। छत्रपति शिवाजी टर्मिनल 38th world heritage site in india में से एक है जो वर्तमान में मध्य रेलवे में स्थित है। य

NDA ka Full form in hindi

NDA ka Full form - NDA का फुल फॉर्म यदि आप NDA ka Full form जानने के लिए इस पेज पर आए हैं। तो आप बिल्कुल सही जगह पर आए हैं। आज हम आपको NDA ka Full form व NDA से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी इस पेज के माध्यम से आपको देंगे, तो इसलिए आपसे रिक्वेस्ट है, कि आप इस पेज को पूरा पढ़ें जिससे आपको NDA ka Full form सहित NDA के दूसरी चीजों के बारे में भी जानकारी प्राप्त होगी।        NDA ka Full form बताने से पहले आपको यह बता दें कि NDA का दो महत्वपूर्ण फुल फॉर्म होते हैं। पहला NDA जो सुरक्षा बल से संबंधित है । तथा दूसरा NDA जो पॉलिटिक्स से संबंधित है। NDA ki full form NDA ki full form -1 NDA ka full form ' National defence academy hota hai' जिसे हिंदी में राष्ट्रीय रक्षा अकादमी कहा जाता है। NDA ki full form -2 NDA ka full form ' National democratic Alliance ' जिसे हिंदी में ' राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ' कहा जाता है। इसके बारे में हम दूसरी पोस्ट में पड़ेंगे आज हम सिर्फ National defence academy के बारे में पड़ेंगे। NDA क्या है - what is NDA इंडियन नेशनल डिफेंस ए

Sanchi Stupa in hindi - सांची स्तूप

 Sanchi stupa in hindi        - भारत में सबसे पुरानी जीवित पत्थर की संरचनाओं में से एक और बौद्ध वास्तुकला का एक नमूना है, Sanchi stupa  में महान स्तूप आपको प्राचीन भारत के सबसे शक्तिशाली शासकों, राजा अशोक और बौद्ध धर्म के बाद के उत्थान के बीच में शामिल होने में मदद करेगा।  यह गोलार्द्ध का पत्थर का गुंबद, हालांकि सांची का पर्यायवाची है, जब मूल रूप से तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व में सम्राट अशोक द्वारा कमीशन किया गया था, एक साधारण ईंट संरचना की जिसमें भगवान बुद्ध के अवशेष एक केंद्रीय कक्ष में रखे गए थे। मध्य प्रदेश में भोपाल से लगभग 46 किलोमीटर उत्तर पूर्व में Sanchi stupa एक यूनेस्को World Heritage site है, और मौर्य काल से शुरू होने वाली भारतीय वास्तुकला के विकास का एक ऐतिहासिक ढांचा है। Sanchi stupa  का महान स्तूप, जो अपने चार सजावटी मेहराबों या प्रवेश द्वारों के साथ सबसे अच्छे संरक्षित स्तूपों में से एक है, दुनिया भर के पर्यटकों को आज तक आकर्षित करता है, जो इस बौद्ध स्थापत्य कृति में इस अद्भुत स्थल पर घंटों बिताते हैं। , और इसकी मूर्तियों की समृद्धि dekh sakte hai। महा

Rani ki vav in hindi

     UNESCO World Heritage site sites mein शामिल भारत की विश्व धरोहर स्थल रानी की वाव गुजरात शहर के पाटन गांव में स्थित है। Rani ki vav भारत के प्राचीनतम व ऐतिहासिक धरोहर उनमें से एक है यह गुजरात के सरस्वती नदी के किनारे बना एक भव्य बावड़ी (सीढ़ी नुमा कुआं है)। रानी की वाव कुल 7 मंजिला है।           Rani ki vav  इकलौती बावड़ी है जो चारों तरफ से आकर्षक कलाकृतियों और मूर्तियों से घिरी हुई है।  Rani ki vav  का निर्माण सोलंकी वंश के राजा भीमदेव की याद में उनकी पत्नी रानी उदयमति ने 11वीं सदी में करवाया था।  Rani ki vav  की विशाल व अद्भुत संरचना के कारण यूनेस्को वर्ल्ड Heritage site में 2014 में शामिल किया गया है।           Rani ki vav  अपनी अकल्पनीय वह अनूठी संरचना के लिए बहुत ही प्रसिद्ध है यह भूमिगत जल से स्रोतों से थोड़ी अलग है। रानी की भाव की संरचना के अंदर 500 से ज्यादा मूर्ति कलाओं को बहुत ही अच्छे ढंग से प्रदर्शित किया गया है। रानी की वाव को 2018 में RBI के द्वारा 100 के नोट में प्रिंट किया गया जो इसे दुनिया में एक अलग ही स्थान प्रदान करती है। Rani ki vav Important information -

Khajuraho Temple in Hindi - खजुराहो

Khajuraho ka mandir - खजुराहो का मंदिर एक सभ्य सन्दर्भ, जीवंत सांस्कृतिक संपत्ति, और एक हजार आवाजें, जो सेरेब्रम, से अलग हो रही हैं, Khajuraho ग्रुप ऑफ मॉन्यूमेंट्स , समय और स्थान के अन्तिम बिंदु की तरह हैं, जो मानव संरचनाओं और संवेदनाओं को संयुक्त करती सामाजिक संरचनाओं की भरपाई करती है, जो हमारे पास है। सब रोमांच में। यह मिट्टी से पैदा हुआ एक कैनवास है, जो अपने शुद्धतम रूप में जीवन का चित्रण करने और जश्न मनाने वाले लकड़ी के ब्लॉकों पर फैला हुआ है। चंदेल वंश द्वारा 950 - 1050 CE के बीच निर्मित, Khajuraho Temple भारतीय कला के सबसे महत्वपूर्ण नमूनों में से एक हैं। हिंदू और जैन मंदिरों के इन सेटों को आकार लेने में लगभग सौ साल लगे। मूल रूप से 85 मंदिरों का एक संग्रह, संख्या 25 तक नीचे आ गई है।  यह एक यूनेस्को विश्व विरासत स्थल, मंदिर परिसर को तीन क्षेत्रों में विभाजित किया गया है: पश्चिमी, पूर्वी और दक्षिणी। पश्चिमी समूह में अधिकांश मंदिर हैं, पूर्वी में नक्काशीदार जैन मंदिर हैं जबकि दक्षिणी समूह में केवल कुछ मंदिर हैं।  पूर्वी समूह के मंदिरों में जैन मंदिर चंदेला शासन के द

Upsc ka full form

यदि आप upsc ka full form तथा upsc के बारे में आयोजित होने वाली परीक्षाओं तथा how to crack upsc इसके बारे में जानकारी चाहते हैं। तो आप इस ब्लॉग को पूरा पढ़ें आपको इस ब्लॉग में upsc ka full form सहित upsc से जुड़े सभी पदों के बारे में जानकारी प्रदान की जाएगी। UPSC ka full form - full form of UPSC UPSC क्या है - what is UPSC UPSC की चयन प्रक्रिया - UPSC selection process यूपीएससी के पद - posts of UPSC IAS SLLYABUS - आईएएस का सिलेबस History of UPSC - UPSC का इतिहास UPSC का संवैधानिक प्रावधान NDA ka full form UPSC ka full form - full form of UPSC upsc ka full form हिंदी में संघ लोक सेवा आयोग होता है। तथा इंग्लिश union public service commission होता है। यह एक सरकारी एजेंसी होती है। जिसके माध्यम से केंद्र सरकार के अनेक ग्रुप A और ग्रुप A के पदों के लिए कर्मचारियों का चयन किया जाता है। तथा या भारत की सबसे कठिन परीक्षा होती है। जिसे पास करने की इच्छा हर प्रतियोगी छात्र के मन में होती है।  UPSC क्या है - what is UPSC   यूपीएससी कैसी संस्था है। जो केंद्र कर्मचारी ग्रुप A और ग्रुप B के लिए

38th world heritage site in india - भारत का यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल

भारत का यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल ( UNESCO - World Heritage place ) में एक अलग ही पहचान है। भारत में अभी तक कुल  38th world heritage site in india   स्थित है। जिन्हें संयुक्त राष्ट्र वैश्विक वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन यानी यूनेस्को द्वारा 2018 में मान्यता दी गई थी। जिससे भारत उन चुनिंदा देशों में से अपनी एक अलग पहचान रखता है।  यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल 2018 की सूची में भारत के 38th world heritage site in india  स्थित हैं जिनमें से  30, सांस्कृतिक 7, प्राकृतिक एवं 1, मिश्रित विश्व दर्शनीय स्थल है। भारत की सबसे पहली  38th world heritage site in india  में आगरा का किला और अजंता की गुफाएं हैं। जिन्हें 1983 में विश्व दर्शनीय स्थल के रूप में मान्यता दी गई थी। और अगर सब से बात की बात करें तो 2018 में मुंबई के विक्टोरियन गोथिक और आर्ट डेको एंसेंबल को सम्मिलित किया गया था। जुलाई 2017 में  38th world heritage site in india  में भारत के अहमदाबाद शहर को प्रथम स्थान प्राप्त हुआ था। भारत का यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल -  38th world heritage site in india 1. ताजमहल                      1983   

Sun Temple Konark - सूर्य मंदिर कोणार्क

  Sun Temple Konark - सूर्य मंदिर कोणार्क उड़ीसा में स्थित कोणार्क में प्रतिष्ठित सूर्य मंदिर के बारे में रबींद्रनाथ टैगोर कहते हैं, "पत्थर की भाषा मनुष्य की भाषा से आगे है।" यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल , कोणार्क सूर्य मंदिर प्राचीन कलात्मकता, विचारों की तरलता का खजाना है। यह पूर्ण रूप से सूर्य देव को समर्पित,जब सूर्य की पहली किरणें मंदिर के प्रवेश द्वार पर पड़ती हैं। तो मंदिर का अलग ही नजारा होता है। मंदिर का अधिकांश भाग चट्टानों और खंडहर में गिर गया है, लेकिन जो अभी भी शेष है, उसे लुभाने के लिए पर्याप्त आकर्षण है। यह मंदिर साम्राज्यों को ऊपर उठते और गिरते देखा है, और अपने पहचान को खोया है। फिर भी सैलानी इसे देखने में दिलचस्पी दिखाते हैं। Sun temple information - सूर्य मंदिर की जानकारी   माना जाता है कि कोणार्क सूर्य मंदिर 13 वीं शताब्दी में बनाया गया था मंदिर का निर्माण राजा नरसिंहदेव - 1, ने 1238-1250 ईस्वी के बीच पूर्वी गंगा वंश में किया था। मंदिर का निर्माण राजा द्वारा किया गया था, जबकि सामंतराय महापात्र इसके निर्माण के प्रभारी थे। ‘कोणार्क’ का अर्थ सूर्य है। इस मंदिर

Nanda Devi National Park in hindi - औली

Nanda Devi National Park - नंदा देवी नेशनल पार्क देश के सबसे सुंदर राष्ट्रीय उद्यानों में से एक, नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान नंदा देवी पर्वत की तलहटी में स्थित है। यह उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित है, और इसे  औली के नाम से भी जाना जाता है। यह पार्क बाहरी अभयारण्य और आंतरिक अभयारण्य में विभाजित है। रमानी और त्रिशूल ग्लेशियर बाहरी अभयारण्य बनाते हैं, जबकि आंतरिक अभयारण्य उत्तरी नंदादेवी, उत्तरी ऋषि और चनाबंग ग्लेशियरों द्वारा तैयार किया जाता है। हिमालयन ब्लैक-बेयर, स्नो लेपर्ड, हिमालयन मस्क डियर, रूबी थ्रोट, ब्राउन-बीयर, ग्रोसबीक्स आदि जानवरों की विभिन्न नस्लें यहाँ पाई जाती हैं। आपको यहां 114 प्रजातियों के पक्षियों और 312 फूलों की प्रजातियों को देखने को मिलेंगे। प्रकृति का पता लगाने के लिए एक लोकप्रिय पार्क, साहसिक नशेड़ी ट्रेकिंग गतिविधियों में शामिल हो सकते हैं। पहाड़ के मनोरम दृश्यों के साथ घने जंगल परिपूर्ण ट्रेकिंग ग्राउंड के रूप में कार्य करते हैं। Auli Interesting facts - औली के महत्वपूर्ण फैक्ट लगभग साल भर चमचमाती बर्फ की एक चादर के नीचे रखा गया, औली दुनिया में